Tanhai shayari in hindi font/dard-e-tanhai shayari

tanhai shayari in hindi font/dard-e-tanhai shayari/hindi tanhai shayari/tanhai shayari in 2 lines/raat ki tanhai shayari/tanhai shayari in urdu/urdu tanhai shayari,tanhai shayari for bewafa/bewafa tanhai shayari/tanhai status

is subakti tanahai se
is dard ki gehrai se
ye dil kuch baat kar raha hai
zara samjho is fiza ki zubaan ko
aaj fir tumhe koi yaad kar raha hai


thi umeed jinse badi badi
wo mile to aaj yoon mile
me nazar utha ke tadap gaya
aur wo nazar jhuka ke chale gaye


 yah to vaqt vaqt kee baat hai
dost, kabhee ham bhee isee arsh
ke taare the, aaj aapakee
nazaron ko nahee bhaate, kabhee
ham bhee in nazaron ke pyaare the.


titaliyon ko paakarana usakee aadat thee
puraanee, har ek se larana usakee aadat
thee puraanee, ham usake saath chal
die yah jaanate hue bhee, raaste main
chor dena usakee aadat thee puraanee.


doobate sooraj ka nazaara kya kare,
apanee dharakan ko kisee aur ke
dilme gavaara kya kare jo saanjh
na sake mohabbat kee tadap ko, use
samajhane ke lie ishaara kya kare!



इस सुबक्ती तनहाई से
इस दर्द की गहराई से
ये दिल कुछ बात कर रहा है
ज़रा समझो इस फ़िज़ा की ज़ुबान को


थी उमीद जिनसे बड़ी बड़ी
वो मिले तो आज यून मिले
मे नज़र उठा के तड़प गया
और वो नज़र झुका के चले गये


 यह तो वक़्त वक़्त की बात है
दोस्त, कभी हम भी इसी अर्श
के तारे थे, आज आपकी
नज़रों को नही भाते, कभी
हम भी इन नज़रों के प्यारे थे.


तितलियों को पाकरना उसकी आदत थी
पुरानी, हर एक से लराना उसकी आदत
थी पुरानी, हम उसके साथ चल
दिए यह जानते हुए भी, रास्ते मैं
चोर देना उसकी आदत थी पुरानी.


डूबते सूरज का नज़ारा क्या करे,
अपनी धरकन को किसी और के
दिल्मे गवारा क्या करे जो सांझ
ना सके मोहब्बत की तड़प को, उसे
समझने के लए इशारा क्या करे!

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »