Nazre Mila Ke Rukh Ko Chupaya Mohabbat Shayari

mohabbat shayari,mohabbat hindi shayari,mohabbat hindi font shayari,love shayari for girlfriend,bewafai ki shayari,bewafa gf ke liye shayari,bewafa shayari for first love,first love shayari,latest shayari top wali,whats app love shayari in hindi,fb shayari,sachi mohabbat wali shayari,शायरी ,मोहब्बत शायरी ,


nazre mila  ke rukh ko chupata kyon hai
sharmana hai to nazre milata kyon hai


kyo saya bankar kyon hame sata rahe ho
raat guzri thi guzri hai aur guzar jayegi


tum lagte to masoom ho par nigahein khanjar hain
ye kyon keh rahe ho ki hamme koi khasiyat nahi hai


kuch aashiq manzil ke kareeb karte hain
zyadatar is tarah se gareeb marte hain


ummedo ke chiraag bhut mukammal bujhe nahi
hawa bhi nahi hai aur yakeen bhi nahi


charigein mohabbat bujh gaye aaj unhi ke aanchal se
warna hawao se hame shiqayat rahi hoti


raat doob gaye hote ham gham ke toofan me
par neend ki kashti hame sakoon-e-sheher tak le gai


is tarah guzar gaye hamare samne se wo
jaise garmio ke din hon aur jhonka hawa ka ho


wo hame thukra gaye or ham gila bhi na kar sake
kami hamme rahi hogi unhe bewafa bhi nahi keh sake


नज़रे मिला  के रुख़ को चुपाता क्यों है
शरमाना है तो नज़रे मिलता क्यों है


क्यो साया बनकर क्यों हमे सता रहे हो
रात गुज़री थी गुज़री है और गुज़र जाएगी


तुम लगते तो मासूम हो पर निगाहें खंजर हैं
ये क्यों कह रहे हो की हममे कोई ख़ासियत नही है


कुछ आशिक़ मंज़िल के करीब करते हैं
ज़्यादातर इस तरह से ग़रीब मरते हैं


उम्मेडो के चिराग भूत मुकम्मल बुझे नही
हवा भी नही है और यकीन भी नही


चरीगें मोहब्बत बुझ गये आज उन्ही के आँचल से
वरना हवओ से हमे शिक़ायत रही होती


रात डूब गये होते हम घाम के तूफान मे
पर नींद की कश्ती हमे सकूँ-ए-शहेर तक ले गई


इस तरह गुज़र गये हमारे सामने से वो
जैसे गर्मिो के दिन हों और झोंका हवा का हो


वो हमे ठुकरा गये ओर हम गीला भी ना कर सके
कमी हममे रही होगी उन्हे बेवफा भी नही कह सके



Share this

Related Posts

Previous
Next Post »