dard-e-dil ki aah 2 line love sad shayari in hindi

2 line love shayari,2 line love shayari in hindi,hindi love shayari two line,two line sad shayari,two line sad shayari in hindi,2 line romantic shayari,2 line love shayari for gf,2 line love shayari for bf,2 line shayari hindi font,hindi font shayari,two line hindi font shayari,2 line whats app shayari,2 line whats app status,2 line love status for whats app,2 line sad shayari in hindi,two line sad status,sad status in two line,sad status in 2 line,2 line attitude shayari,dard-e-dil two line shayari




is dard-e-dil ki aah tum na samajh paoge kabhi
dil-e-dard ka matam sare aam nahi hota hai 


yaaken karo mera aaj is kadar yaad aa rahe ho tum
ji kada aapne bhula rakha hai hame  


kab ab to ek baji apni bhi palat jaye 
use talab ho jaye mere pyar ki 
aur me dil se bewafa ho jau 


hamne to kheli hai poori duniya tash ke patto ki tarah 
jisne jeeta tha usne bhi feka jisne hara usne bhi fek dia 


har roz apse milna aur har roz bichadna hai 
main hu agar raat ki parchai to tu suabha ka chehra hai 


bahut khas the kabhi ham bhi kisi ki nazro me 
magar nazro ke takaze bhi badalne me der kahan lagti hai yahan 


uske pyar ka silsila bhi kya ajeeb silsila tha 
apna bhi nahi banaya kabhi or na kisi ka hone dia 


ye to hamara dil tha deewana jo tum par aaa gaya 
daav to khelte hai par zindagi daaw par lagaya nahi karte 


ek baar dekh ke nazro se pani azad karde mujhe 
me aaj bhi teri us pehli nazar ki qaid me hoo 


us ki hasrat hai mujhko jise mita bhi na saku
dhoondhne usko chala hoo jise kabhi pa bhi na saku 


teri mohabbat se lekar tere akhiri alvida kehne tak 
maine sirf or sirf tujhe chaha,tujh se kabhi kuch nahi chaha


sansoon ke silsilo ko ab na do zindagi ka naam 
jeene ke wabajood bhi mar jaate hai pyar karne waale 


mausam ki misaal do me ya misaal doo tumhari
koi puch betha hai badalna kise kehte hain 


mat puch mere sahil kaise guzar rahi hai zindagi
us gaur se guzar rahi hoo me jo kabhi guzarta hi nahi hai 


ham ab bhi na paa paaye tujhko muddat se chahne ke baad bhi
kisi ne apna bana lia apko chand rasme nibhane ke baad



इस दर्द-ए-दिल की आ तुम ना समझ पाओगे कभी 
दिल-ए-दर्द का मातम सारे आम नही होता है 


याकें करो मेरा आज इस कदर याद आ रहे हो तुम
जी कड़ा आपने भुला रखा है हमे  


कब अब तो एक बाजी अपनी भी पलट जाए 
उसे तलब हो जाए मेरे प्यार की 
और मे दिल से बेवफा हो जौ 


हमने तो खेली है पूरी दुनिया ताश के पत्तो की तरह 
जिसने जीटा था उसने भी फेका जिसने हरा उसने भी फेक दिया 


हर रोज़ आपसे मिलना और हर रोज़ बिछड़ना है 
मैं हू अगर रात की परछाई तो तू सुअभा का चेहरा है 


बहुत खास थे कभी हम भी किसी की नज़रो मे 
मगर नज़रो के तकाज़े भी बदलने मे देर कहाँ लगती है यहाँ 


उसके प्यार का सिलसिला भी क्या अजीब सिलसिला था 
अपना भी नही बनाया कभी ओर ना किसी का होने दिया 


ये तो हमारा दिल था दीवाना जो तुम पर एयेए गया 
दाव तो खेलते है पर ज़िंदगी दाव पर लगाया नही करते 


एक बार देख के नज़रो से पानी आज़ाद कर्दे मुझे 
मे आज भी तेरी उस पहली नज़र की क़ैद मे हू 


उस की हसरत है मुझको जिसे मिटा भी ना साकु
ढूँढने उसको चला हू जिसे कभी पा भी ना साकु 


तेरी मोहब्बत से लेकर तेरे आख़िरी अलविदा कहने तक 
मैने सिर्फ़ ओर सिर्फ़ तुझे चाहा,तुझ से कभी कुछ नही चाहा


सनसून के सिलसिलो को अब ना दो ज़िंदगी का नाम 
जीने के वाबजूद भी मार जाते है प्यार करने वाले 


मौसम की मिसाल दो मे या मिसाल डू तुम्हारी
कोई पूछ बेता है बदलना किसे कहते हैं 


मत पूछ मेरे साहिल कैसे गुज़र रही है ज़िंदगी
उस गौर से गुज़र रही हू मे जो कभी गुज़रता ही नही है 


हम अब भी ना पा पाए तुझको मुद्दत से चाहने के बाद भी
किसी ने अपना बना लिया आपको चाँद रस्मे निभाने के बाद



Share this

Related Posts

Previous
Next Post »