BARSAAT POEM

kal halkii halki barish thi
kal sard hawa ka raqs bhi tha
kal phool bhi nikhre nikhre se the
kal unpe aapka aks bhi tha
kal badal kaley gehre the
kal chand pe laakho pehre the
kuch tukrey apki yaad ke
badi der se dil me thehre the
kal yaad uljhi uljhi thi
aur kal tak ye na suljhi thi
kal yaad bhut tum aaye the
kal yaad bhut tum aaye the




is vaar bhi barish khoob khoob hui
aur badal bhi toot ke barsa tha
galiyaan kunche jal thal the
par soch ka darya pyasa tha
band darwaazo ke shishon pe jab
boondon ne dastak di
ehsas hua tum aaye ho andaaz tumhare jaisa tha


suna hai barish use bi bhut pasand hai
wo bhi meri tarah barsaat ki boondon
 ko hatho me samet leti hai
suna hai phool use bhi bhut pasand hai
wo bhi meri tarah phooto se ghanton
baatein karti hai
suna hai chand use bhi bhut pasand hai
wo bhi meri tarah poori poori raat
use takti rehti hai



कल हलकीी हल्की बारिश थी
कल सर्द हवा का रक़स भी था
कल फूल भी निखरे निखरे से थे
कल उनपे आपका अक्स भी था
कल बदल कली गहरे थे
कल चाँद पे लाखो पहरे थे
कुछ तुकरे आपकी याद के
बड़ी देर से दिल मे ठहरे थे
कल याद उलझी उलझी थी
और कल तक ये ना सुलझी थी
कल याद भूत तुम आए थे
कल याद भूत तुम आए थे



इस वार भी बारिश खूब खूब हुई
और बदल भी टूट के बरसा था
गलियाँ कुंचे जल तल थे
पर सोच का दरया प्यासा था
बंद दरवाज़ो के शीशों पे जब
बूँदों ने दस्तक दी
एहसास हुआ तुम आए हो अंदाज़ तुम्हारे जैसा था



सुना है बारिश उसे बी भूत पसंद है
वो भी मेरी तरह बरसात की बूँदों
 को हाथो मे समेत लेती है
सुना है फूल उसे भी भूत पसंद है
वो भी मेरी तरह फूटो से घंटों
बातें करती है
सुना है चाँद उसे भी भूत पसंद है
वो भी मेरी तरह पूरी पूरी रात
उसे तकती रहती है 


search terms:
barsaat poem,poem on barsaat,love poem in barsaat,barsaat love story,rainy season love poem,bewafa barsaat love poem,hindi barsaat poem,love status on wallpapers on barsaat,barsaat dp for whats app,barsaat new poem,latest barsaat poems,best barsaat hindi poems,top 50 barsaat poems,top 50 barsaat hindi poems,best hindi barsaat romantic poems,romantic poems on barsaat,sad poems on barsaat,alone poems in barsaat,barsaat me yaad poems,barsad love hindi poems on barsaat,shorts poems on barsaat,long poems on barsaat,barish poems

1 comments :

 
How to Lose Weight at Home Top