GHAM 4 LINE LOVE HINDI SHAYARI ME RAHA HOON AKELA

lakho hi gham aur bhale de dijiye
ham unme nahi hai jo dar jayenge
aap hamari fikr karna chor dijiye
ham zinda kahan hai jo mar jayenge


me raha hoon akela sada hi yahan
mera sathi na koi mere paas hai
khata kiski batau aur dosh kiska kahu
apni apni kismat ki hi ye baat hai


me hoon bohot acha kehte to sabhi hain
mere ghamo me sang rehte na kabhi hain
gehrai ko sagar ki na samjha koi
upar se hi uske sang behte sabhi hain


har kadam pe mujhko naya gham milta hai
me wo vruksh hoon jiske na koi fool khilta hai
me is bhram me tha ki khuda mere sath hai
wo bhi hua begana bas iska gila hai


na jaan saka koi ae mohabbat tujhko
na jaane kaise kaise rang dikhlati hai tu
kabhi le aati hai do anjan dilo ko paas
aur kabhi apne se bhi door le jaati hai


लखो ही घाम और भले दे दीजिए
हम उनमे नही है जो दर जाएँगे
आप हमारी फ़िक्र करना चोर दीजिए
हम ज़िंदा कहाँ है जो मार जाएँगे


मे रहा हूँ अकेला सदा ही यहाँ
मेरा साथी ना कोई मेरे पास है
ख़ाता किसकी बतौ और दोष किसका काहु
अपनी अपनी किस्मत की ही ये बात है


मे हूँ बोहोट अछा कहते तो सभी हैं
मेरे घमो मे संग रहते ना कभी हैं
गहराई को सागर की ना समझा कोई
उपर से ही उसके संग बहते सभी हैं


हर कदम पे मुझको नया घाम मिलता है
मे वो वृक्ष हूँ जिसके ना कोई फूल खिलता है
मे इस भ्रम मे था की खुदा मेरे साथ है
वो भी हुआ बेगाना बस इसका गीला है


ना जान सका कोई आए मोहब्बत तुझको
ना जाने कैसे कैसे रंग दिखलती है तू
कभी ले आती है दो अंजन दिलो को पास
और कभी अपने से भी डोर ले जाती है

short love shayari/short love hindi shayari/4 line hindi love shayari/4 line hindi sadf shayari/4 line love status for whats app/mohaabat hindi shayari/mohabbat shayari/dilo ki shayari/samjhne wali love shayri/pyar ki gehrai shayari/kismat shayari/zindagi 4 line shayari/shayari for facebook for love in hindi

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »